इस मां के आगे झुका दुनिया का सबसे बड़ा खेल आयोजक ओलंपिक, नियमों में किया बड़ा बदलाव

कहते हैं इस दुनिया में मां से मजबूत कोई और शख्स नहीं है। एक मां अपने बच्चों के लिए सब कुछ कर गुजरने को तैयार रहती है। चाहे वह फिर दुनिया का सबसे बड़ा खेल आयोजन ही क्यों ना हो। वह उसे भी झुकाने में दम खम रखती है। जी हां, टोक्यो ओलंपिक के लिए जहां सभी देशों के खिलाड़ी तैयारियां कर रहें हैं तो वहीं एक ऐसी खिलाड़ी भी है जो अपने बच्चे के लिए दुनिया के सबसे बड़े खेल समारोह के नियमों में बदलाव कर दिया। मां की ममता के आगे सभी ने एक बार फिर अपने घुटने टेक दिए।

दरअसल इस बार ओलंपिक का आयोजन जापान की राजधानी टोक्यो में हो रहा है। कोरोना वायरस के कारण ओलंपिक की कमेटी ने नियमों को काफी सख्त कर दिए हैं जिस वजह से खिलाड़ी अपने परिवार के सदस्य को अपने साथ नहीं ले जा सकते। ब्रिटिश कोलंबिया के मिसन की रहने वाली किम की 3 महीने की एक छोटी से बच्ची है। अब उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि वह अपने सपने को पूरा करने के लिए ओलंपिक में भाग लें या फिर अपनी बेटी के साथ रहें। लेकिन मां की ममता के आगे ओलंपिक समिति ने भी नियमों में बदलाव किया और मां की जीत हुई।

किम ने इसे समस्या को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर की। इस वीडियो में किम ने अपनी बेटी को टोक्यो ओलंपिक ले जाने की अपील की। उनकी इस वीडियो को सोशल मीडिया पर लोगों ने काफी पसंद किया। किम ने जो भावनात्मक अपील की उसका असर ओलंपिक समिति पर भी पड़ा जिस कारण उन्हें अपने नियमों में बदलाव करना पड़ा। इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी ने किम की वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हम उनके इस फैसले का स्वागत करते हैं। ओलंपिक में कई खिलाड़ी हैं जो मां भी हैं और वे सभी इस प्रतियोगिताओं में भाग लेने की लिए सक्षम हैं किसी भी महिला खिलाड़ी जो मां है उसे कोई मनाही नहीं है। इसके साथ ही इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए विशेष प्रबंधन किया है।

क्या कहा था किम ने

किम ने इंस्टाग्राम पर वीडियो पोस्ट करते हुए कहा था कि दुनिया की सभी मीडिया को जापान की यात्रा कर सकते हैं। जापानी दर्शकों को भी स्टेडियमों में आने की अनुमति है लेकिन सिर्फ खिलाड़ियों को ही अपने बच्चों को साथ नहीं ले जाने दिया जाएगा। दर्शक स्टेडियम में मैच देख सकते हैं लेकिन मैं अपनी बेटी से नहीं मिल पाउंगी।

ओलंपिक कमेटी के फैसले से झूम उठीं किम

किम को जब ओलंपिक कमेटी के इस फैसले की जानकारी उनके पति ने बताई तो वह इतनी खुश हुई की उनकी खुशी का कोई ठिकाना नही रहा। किम ने कहा कि मैं ओलंपिक कमेटी के फैसले से बहुत खुश हूं और मैं उन सभी लोगों का आभार व्यक्त करती हूं जिन्होंने इस कार्य में मेरी मदद की। किम को ही इस तरह की समस्या से दो चार नहीं होना पड़ रहा था।

अन्य महिला खिलाड़ियों ने फैसले का स्वागत किया

बाकी कई खिलाड़ियों को भी इस तरह की समस्या हो रही थी जो खिलाड़ी के होने के नाते एक मां का फर्ज भी निभा रही थी। अमेरिका की फुटबॉल खिलाड़ी एलेक्स मोर्गन को भी इसी समस्या से परेशान थी। उन्होंने भी ओलंपिक कमेटी के इस फैसले से अपनी खुशी व्यक्त की है। मोर्गन ने कहा कि वह भी अब अपने साथ बेटी चार्ली को जापान में टोक्यो ओलंपिक के लिए ले जा सकेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *